Welcome to   Click to listen highlighted text! Welcome to

पूर्व RBI गवर्नर रघुराम राजन का राजनीति में प्रवेश

रघुराम राजन: आर्थिक जगत से राजनीति की ओर

भारतीय राजनीति में एक नया अध्याय जुड़ गया है। पूर्व भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर और विश्व प्रसिद्ध अर्थशास्त्री रघुराम राजन ने राजनीति में प्रवेश करने का निर्णय लिया है। उनके इस कदम ने न केवल राजनीतिक बल्कि आर्थिक जगत में भी नई चर्चाओं को जन्म दिया है। राजन का यह निर्णय उनके अनुयायियों और आलोचकों दोनों के लिए समान रूप से आश्चर्यजनक रहा है।

रघुराम राजन, जिन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान भारतीय अर्थव्यवस्था में कई महत्वपूर्ण सुधार किए और वैश्विक मंच पर भारत की आर्थिक नीतियों का प्रतिनिधित्व किया, अब राजनीति के मैदान में उतर चुके हैं। उनके इस निर्णय के पीछे के कारणों पर विचार करते हुए, राजन ने कहा, “मेरा मानना है कि राजनीति वह मंच है जहां से मैं देश की बेहतरी के लिए अधिक प्रभावी ढंग से काम कर सकता हूं।”

राजन के राजनीतिक प्रवेश ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं। क्या वे किसी मौजूदा राजनीतिक दल के साथ जुड़ेंगे या अपनी एक नई पार्टी की स्थापना करेंगे? उनके राजनीतिक एजेंडे में क्या-क्या शामिल होगा? और सबसे महत्वपूर्ण, क्या वे अपने आर्थिक ज्ञान और अनुभव का उपयोग करके भारतीय राजनीति में एक नई दिशा तय कर पाएंगे?

राजन का मानना है कि भारत को आर्थिक विकास के साथ-साथ सामाजिक समरसता कभी आवश्यकता है। उनका कहना है कि आर्थिक नीतियां तभी सार्थक होती हैं, जब वे समाज के हर वर्ग तक पहुंचें और सभी के लिए लाभकारी हों। राजन की राजनीतिक योजनाओं में शिक्षा, स्वास्थ्य सेवा, और आर्थिक समानता पर विशेष जोर देने की उम्मीद है। उनका मानना है कि इन क्षेत्रों में सुधार से ही भारत एक समृद्ध और समावेशी समाज की ओर बढ़ सकता है।

राजन के राजनीतिक प्रवेश को लेकर आम जनता और विशेषज्ञों की प्रतिक्रियाएं मिली-जुली हैं। कुछ लोग उनके इस कदम को भारतीय राजनीति में एक सकारात्मक परिवर्तन के रूप में देख रहे हैं, जबकि अन्य इसे एक जोखिम भरा निर्णय मान रहे हैं। राजन की विशेषज्ञता और अनुभव निस्संदेह उन्हें एक अनूठी स्थिति में रखते हैं, लेकिन राजनीति की जटिलताएं और चुनौतियां भी कम नहीं हैं।

राजन के राजनीतिक कदम का एक महत्वपूर्ण पहलू यह भी है कि वे अपने आर्थिक विचारों और नीतियों को किस प्रकार राजनीतिक नीतियों में ढाल पाते हैं। उनके विचार और नीतियां भारतीय अर्थव्यवस्था को नई दिशा देने में सक्षम हैं, लेकिन राजनीतिक अखाड़े में इन्हें लागू करना एक अलग चुनौती होगी।

राजन का यह भी मानना है कि भारतीय राजनीति में विज्ञान और तकनीकी ज्ञान की गहरी समझ वाले लोगों की आवश्यकता है। उनके अनुसार, आधुनिक भारत को विकसित करने के लिए नवाचार और तकनीकी प्रगति पर जोर देना होगा।

Click to listen highlighted text!